BPO Full Form | BPO क्या है? जानिए हिंदी में

BPO Full Form, वेलकम दोस्तों, BPO क्या है? और इसका Hindi अर्थ क्या होता है? इसके बारे में आज हम जानेंगे | आप BPO इंडस्ट्री में  JOB करना चाहते है तो इसके लिए आपको इसके बारे में जानना बेहद जरुरी है | की BPO Kya Hai? वर्तमान की बात करे तो इस इंडस्ट्री में जॉब करने के लिए कई candidate उत्सुक होते है |

BPO Company में Youngsters तेजी से रुख़ कर रहे है और अपना Career बना रहे है। Youngsters के लिए यह शानदार Career Option होता है। BPO Full Form

BPO Full Form | BPO क्या है और कैसे काम करता है?

BPO का full form “Business Process Outsourcing” होता है.

BPO एक ऐसी Outsource Process है जिसमें Third Party Provider को Contract के आधार पर Management में शामिल किया जाता है। तो अभी आपने जाना BPO का Full Form

BPO Telecaller Means in Hindi तो BPO आमतौर पर Back Office में Classified Outsource है। जिसमे Internal Trade Operations जैसे – Human Resource, Finance और Accounting शामिल होते है और Front Office Outsourcing में Customer Service जैसे Call Center शामिल होता है।

यहाँ पर किसी company के non-primary business activities और functions को किसी third-party provider को contract basis में करने के लिए दिया जाता है बीपीओ उद्योग में बहुत सारे services उपलब्ध होते हैं जैसे की payroll, human resources (HR), accounting और customer/call center relations इत्यादि |

बीपीओ क्षेत्र को एक दुसरे नाम से भी जाना जाता है जिसे की Information technology enabled services (ITES) कहते हैं. Business process outsourcing (जिसे की अक्सर BPO भी कहा जाता है) layman’s की terms में. अगर इसकी परिभाषा को ठीक तरीके से समझा जाये तब ये कह सकते हैं की “ये एक ऐसा process है |

BPO Full Form

जहाँ की एक company अपने कुछ business functions (responsibilities) को किसी एक third party organization के साथ share करते हैं, ऐसा इसलिए क्यूंकि वो organization इस काम को करने में पूरी तरह से सक्षम होते हैं, और ये वो काम होते हैं जिन्हें की companies खुद से कर नहीं सकते या उन्हें करना नहीं चाहते|

Type of BPO:

काम के हिसाब से और BPO system को 3 तरीको में बांटा गया है और अभी लगभग सभी companies इसी तरीके से काम करती है.

  1. Offshore Outsourcing: एक देश की कंपनी अपनी services प्रदान करने का काम दूसरे देश के कंपनी को सौंपती है, दूसरे देश के  कंपनी के साथ करार करती है इस प्रक्रिया को Offshore Outsourcing कहा जाता है.
  2. Onshore Outsourcing : एक कंपनी दूसरे कंपनी को अपनी services प्रदान करने का कार्य सौंपती है, इसमें दोनों कंपनियां एक ही देश से होती है. इस प्रक्रिया को Onshore Outsourcing तथा Domestic (देशीय/घरेलू) Outsourcing कहते है.
  3. Nearshore Outsourcing : एक कंपनी अपनी services प्रदान करने का कार्य अपने आसापास के यानी स्थानीय कंपनी को देती है इस प्रक्रिया को Nearshore Outsourcing कहते है|

Business process outsourcing. इसका मतलब की जब एक company अपने सारे काम खुद नहीं कर पाती हैं तब वो दुसरे companies का help लेती हैं जिन्हें की उस काम में महारत हासिल हो. ऐसा करने से उन्हें अपने काम में बड़ा लाभ होता है. उन्हें अपने काम समय में मिल जाते हैं और उनकी cost भी सामान्य होती है |

अगर हम इन processes या काम की बात करूँ तब इसमें मुख्य रूप से customer service, technical support, billing administration इत्यादि मुख्य होते हैं| BPO Full Form

BPO Candidate की Skills

चूँकि BPO’s में अच्छी communication का होना सबसे ज्यादा जरुरी होता है क्यूंकि यही task उन्हें प्राय सभी processes में करना होता है. इसलिए अगर कोई candidate जो की BPO के लिए apply कर रहा है उसे अपने Oral और Written Communication के ऊपर ज्यादा देना चाहिए. चलिए दुसरे जरुरत के skills के विषय में और जानते हैं|

1.  वो Oral और written communication में अच्छा होना चाहिए|

2.  एक effective communicator होना चाहिए जब भी वो किसी consumer या client के साथ बात कर रहा हो|

3.  उसे computer basics की knowledge होनी चाहिए|

4.  वो किसी भी environment और समय में adapt हो सकने की काबिलियत होनी चाहिए|

5.  नए चीज़ों को सिखने के लिए आग्रह दिखाना चाहिए और खुद को हमेशा motivated रखना चाहिए|

6.  ‘हमेशा से धैर्यवान होना चाहिए और किसी भी स्तिथि में खुद को मजबूत रखने की काबिलियत रखनी चाहिए|

7.  हमेशा खुद को Market के साथ updated रखना चाहिए और trends को follow करना चाहिए |

BPO के Advantages क्या है | BPO Companies के फायदे

वैसे तो BPO के बहुत सारे advantages हैं लकिन यहाँ पर हम उसके कुछ मुख्य advantages के विषय में जानने वाले हैं.

  • Business process की speed और efficiency काफी हद तक बढ़ जाती है.
  • Employees की समय की बचत होती है जिससे वो ज्यादा समय core business strategies को बढ़ाने में लगा सकते हैं जो की बाद में उन्हें competitive advantage प्रदान करता है और इससे वो उनके value chain engagement को भी बढ़ा सकते हैं.
  • Organizational growth में तरक्की होती है क्यूंकि जब capital resource और asset expenditures की जरुरत नहीं होती है तब इससे problematic investment returns भी उत्पन्न होने से बच जाते हैं.
  • Organizations को उनके unrelated primary business strategy assets में समय देने के जरुरत नहीं पड़ती है जिससे वो अपना सारा focus core strategies को develop करने में लगा सकते हैं.
  • Low operating costs का होना
  • Improved Automation का होना
  • Scaling में ज्यादा flexibility होना
  • इससे वो experts और technology को आसानी से access कर सकते हैं
  • • Consumer और Products के विषय में Smarter Analytics बनाया जा सकता है.

BPO की Disadvantages (जिसमें risks included होती हैं)

  • Data privacy की breach होने की संभावना ज्यादा होती है.
  • यहाँ पर running costs को underestimate कर दिया जाता है.
  • Service Providers के ऊपर ज्यादा Overdependence करना पड़ जाता है|
BPO Full form
BPO Full form

Outsourcing के फायदे

वैसे Outsourcing के तो बहुत सारे advantages हैं लेकिन यहाँ पर हम कुछ महत्वपूर्ण advantages के विषय में जानेंगे.

1.  अपने सभी data entry और दुसरे cumbersome jobs को outsource कर लेने से companies के पास बहुत समय बचता है जिसे की वो अपने core activities में लगा सकते हैं.

2.  अपने secondary responsibilities की outsourcing करने से BPO के द्वारा, वो बहुत ही कम समय में आपके बहुत सारे काम को ठीक तरीके से कर सकते हैं जिससे आपके cost-efficiency में काफी लाभ होगी.

3.  इससे Overhead cost Reduction भी होती है. is also a very big advantage. बहुत सारे processes को करने के लिए generally बड़े infrastructure, Investment, maintenance और दुसरे overheads की जरुरत होती है, इसलिए इसमें उचित ये है की इन processes को बहार से outsource कर लिया जाये.

4.  अगर कोई कर्मचारी बिना कुछ बोले नौकरी छोड़ दे या short notice देकर नौकरी छोड़ दे तब भी company के काम में कोई रुकावट नज़र नहीं आती हैं, और काम उसी pace में चलती रहती है.

5.  अगर एक बड़े project में आपके employees के पास वो सारी जरुरत की skills नहीं हैं तब आपके project की on-site outsourcing करने से आपके employees को नए skills सिखने में सुविधा होती है क्यूंकि वो project में outsourcing BPO के साथ side-by-side काम करते हैं.

BPO और Call Center में क्या अंतर है?

बहुत से लोगों का ये मानना होता है कि, BPO और call center एक ही होता है और दोनों का work process भी समान होता है लेकिन सच बात तो ये है call center एक तरह से BPO का ही एक हिस्सा है पर ये दोनों पूरी तरह समान नही है और इनके work process भी कुछ हद तक अलग अलग होते है.

  • BPO Online और Offline दोनों तरीके से हो सकता है तो call center सिर्फ Online तरीके से होता है.
  • Call center में केवल कॉल करना और कॉल उठाना शामिल होता है तो BPO में mails, meetings, printing, documents, call आदि. शामिल होते है.
  • BPO एक system की तरह काम करता है जिसका उद्देश्य अपने business की productivity बढाने का होता है तो वहीँ BPO का हिस्सा होने के कारण call center में अपने ग्राहक की सहायता करना और product का प्रचार करना शामिल होता है.
  • BPO में जॉब पाने के लिए Computer की जानकारी और अच्छी English की जानकारी अनिवार्य होता है तो call center में basic कंप्यूटर जानकारी और communication skill होना जरुरी है. (Note : Domestic BPO तथा call center में हिंदी और अन्य भाषाओं में जॉब उपलब्ध होते है.)
  • BPO में IT, finance, billing आदि जैसे अलग अलग डिपार्टमेंट होते है लेकिन call center में सिर्फ calling डिपार्टमेंट होता है.

Also Check this Post:

Jio APN Setting कैसे करे | इंटरनेट स्पीड कैसे बढ़ाये

BSNL SIM का Net Balance कैसे चेक करें |

Airtel Sim की Call Details कैसे निकालें | Airtel Call History कैसे देखे

Indian Passport कितने तरह के होते है | आइये जानते हैं

Conclusion / निष्कर्ष:

मुझे पूर्ण आशा है की मैंने आप लोगों को BPO क्या है? BPO के बारे में पूरी जानकारी दी और में आशा करता हूँ आप लोगों को BPO के बारे में समझ आ गया होगा | हमने यहाँ पर सभी जरुरी जानकारी के बारे में बताया है यदि आप लोगों को किसी भी तरह की कोई भी doubt है तो आप मुझसे पूछ सकते हैं |

जानकारी अच्छी लगे तो दोस्तों के साथ शेयर करे. कोई भी सुजाव या फिर प्रशन पुछने के लिए कमेंट करे आपको उत्तर दिया जायेगा. इसी प्रकार से Helpful जानकारी पढने के लिए हमारे साथ बने रहिये गा आज के लिए इतना ही धन्यवाद |

27 thoughts on “BPO Full Form | BPO क्या है? जानिए हिंदी में”

Leave a Comment