कुतुब मीनार की लंबाई कितनी है, Kutub Minar ki Lambai Kitni Hai

Kutub Minar ki Lambai Kitni Hai, नमस्कार दोस्तों Techymine.com में आपका एक बार फ़िर से स्वागत है। आज हम बात करने वाले है, कुतुब मीनार की लंबाई कितनी है, Kutub Minar ki Lambai Kitni Hai. बता दें कि इस भव्य मीनार के निर्माण में लाल बलुआ पत्थर और मार्बल का इस्तेमाल किया गया है, जिसमें अंदर गोल करीब 379 सीढ़ियां हैं। इसके अलावा इसके निर्माण में मुगलकालीन वास्तु शैली का इस्तेमाल किया गया है।

क़ुतुब मीनार एक दुनिया की सबसे ऊँची मीनार है. यह लाल पत्थरो एव मार्बल से बनाया गया है |

कुतुब मीनार की लंबाई कितनी है, Kutub Minar ki Lambai Kitni Hai

कुतुब मीनार एक इमारत है। कुतुब मीनार दिल्ली में स्थित है। यह बहुत ही ऊंचा मीनार है। यदि हम बात करें कि कुतुब मीनार को किसने बनवाया था? तो हम आपको बता दें कि कुतुब मीनार को कुतुबुद्दीन ऐबक ने सन 1193 में बनवाया था और इसी के नाम पर इस इमारत का नाम कुतुब मीनार रखा गया।

कुतुब मीनार की लंबाई 73 मीटर है और कुतुब मीनार कुल 5 मंजिल का है। यह मीनार काफी ऊंचा होने के कारण इसे सबसे बड़ी इमारत की सूचि में भी शामिल किया गया है।

कुतुब मीनार की लंबाई 72.5 मीटर ऊँचा है और अगर फ़ीट में देखे तो 238 फ़ीट ऊँचा है।

सुल्तान कुतुब उद्दीन ऐबक ने 1193 ई में कुतुब मीनार का निर्माण शुरू किया था। कुतुब मीनार की केवल पहली मंजिल कुतुब-उद-दीन द्वारा पूरी की गई थी। शेष 4 मंजिलों को बाद में उनके उत्तराधिकारी ने बनवाया था।

कुतुब मीनार के अंदर क्या है ?

क़ुतुब मीनार के अंदर गोल ऊपर की मंजिल तक ३७९ सीढिया है। और हर मंजिल पर बालकनी है. जहा से हम बहार के नज़ारे देख सकते है. इसके आसपास के परिसर में और भी कई ऐतिहासिक धरोहरे शामिल है. जिसे क़ुतुब काम्प्लेक्स भी कहा जाता है|

कुतुबमीनार में आग लगने के बाद उसका पुनर्निर्माण फिरोज शाह तुगलक के समय हुआ। कुछ इतिहासकार मानते हैं कि कुतुबुद्दीन ऐबक के नाम पर ही इस मीनार का नाम पड़ा जबकि कुछ बताते हैं

कि बगदाद के संत कुतुबद्दीन बख्तियार काकी के नाम पर इस मीनार का नाम कुतुबमीनार पड़ा। 72.5 मीटर ऊँची यह मीनार यूनेस्को की विश्व धरोहर स्मारकों की सूची में भी शामिल है।

कुतुब मीनार को बनने में कितना समय लगा |

1368 में फिरोजशाह तुगलक ने इसकी पांचवी और आखिरी मंजिल बनके इसका निर्माण पूरा किया. यानि इस मीनार को  बनाने में 1193-1368 तक का समय लगा |

(FAQ):

क़ुतुब मीनार कहा स्थित है ?

मेहरौली, नई दिल्ली |

क़ुतुब मीनार की लम्बाई कितनी है?

क़ुतुब मीनार की लम्बाई 72.5 मीटर है जो की 237.86 फीट के बराबर है. इसके आधार पर व्यास 14.4 मीटर है, और शीर्ष पर व्यास 2.44 मीटर है.

क़ुतुब मीनार का निर्माण किसने करवाया?

कुतुबुद्दीन ऐबक ने सन 1193 में क़ुतुब मीनार का निर्माण करवाने के लिए नींव रखी. उनके उत्तराधिकारी इल्तुतमिस के द्वारा इसमें तीन मंजील जोड़ें गएँ और फिर 1368 मेंफिरोज शाह तुल्धलक ने पांचवीं और अंतिम मंजिल का निर्माण किया।

कुतुब मीनार क्यों बनवाई गई?

याद रहे कि काम शुरू ऐबक ने करवाया था और पूरा करवाया इल्तुतमिश ने, और १३८६ में मीनार को दुर्घटना के बाद दुरुस्त करवाया फिरोजशाह तुगलक ने। कुछ इतिहासकार मानते हैं

कि कुतुबुद्दीन ऐबक के नाम पर ही इस मीनार का नाम पड़ा जबकि कुछ बताते हैं कि बगदाद के संत कुतुबद्दीन बख्तियार काकी के नाम पर इस मीनार का नाम कुतुबमीनार पड़ा।

कुतुब मीनार कितनी ऊंचाई पर है?

73 मी

कुतुबमीनार का निर्माण कब हुआ?

कुतुब मीनार का निर्माण दिल्ली के पहले मुस्लिम बादशाह कुतुबुद्दीन ऐबक ने 1199 ईसवी में शुरू कराया था। ऐबक ने कुतुब मीनार के ग्राउंड और पहले फ्लोर का ही निर्माण कराया था। बाद में उनके दामाद और उत्तराधिकारी इल्तुतमिश ने इसमें तीन और मंजिलें बनवाईं।

विश्व की सबसे ऊंची मीनार कौन सी है?

विश्व के सबसे मशहूर और ऐतिहासिक पर्यटक स्थलों में से एक दक्षिण दिल्ली के महरौली क्षेत्र में स्थित कुतुब मीनार अपने रहस्यमीय निर्माण को लेकर लोगों के बीच कौतुहल बनी हुई है। यह दुनिया की सबसे ऊंची ऐसी मिनार है जिसका निर्माण ईंटो से हुआ है। मीनार की ऊंचाई 72.5 मीटर यानि 237.86 फीट है।

यह भी पढ़े – 

SSC MTS क्या है? MTS Full Form क्या होता है? जाने हिंदी में

ITI Full Form, आईटीआई का फुल फॉर्म क्या है? जाने हिंदी में

Conclusion / निष्कर्ष:-

आशा करता हु दोस्तों आपको ये पोस्ट जरूर पसंद आया होगा। और इस पोस्ट मे मेने कुतुब मीनार की लंबाई कितनी है, Kutub Minar ki Lambai Kitni Hai इसके बारे मे पूरी जानकारी दी हुई है। इसके लिए आप मेरे इस पोस्ट को शेयर भी कर सकते हो |अगर आपके मन में कोई सवाल है तो आप हमें नीचे कमेंट करके बता सकते हैं |

इसी तरह के जानकारी के लिए आप हमारी Website पर Visit करे, और अगर यह पोस्ट पसंद आई हो तो इसे अपने मित्रों को और अपने सोशल साइट शेयर जरूर करें, धन्यवाद |

Leave a Comment